• कॉर्पोरेट प्रोफाइल

नया क्या है

निगमित धारणीयता

Sustainability

ओएनजीसी स्थिरता रिपोर्ट
रिपोर्ट 2015-16 रिपोर्ट 2014-15 रिपोर्ट 2013-14 रिपोर्ट 2012-13
रिपोर्ट 2011-12 रिपोर्ट 2010-11 रिपोर्ट 2009-10  

स्‍थायी विकास ओएनजीसी में सबसे बड़ा कार्यचालन सांचा है और इसकी अभिव्‍यक्ति आर्थिक, पर्यावरणीय और सामाजिक कार्य-निष्‍पादन के त्रि-स्‍तरीय बॉटम लाइन बेंचमार्कों को निरंतर बढ़ाने के प्रति हमारी प्रतिबद्धता में भी है।

हम इस बात को महसूस करते हैं कि ध्‍यान-केंद्रित कार्मिक प्रबंधन प्रयास, पूरे पर्यावरणीय आयाम में हमारे व्‍यवसाय विशिष्‍ट स्‍थायी विकास के मुद्दों के घटकों को कवर करने के लिए एक आदर्श मार्ग था। पर्यावरणीय स्‍थायित्‍व का एक क्रांतिक क्षेत्रक, प्रचालनों से वैश्विक ग्रीनहाउस गैस की समाप्ति है।

हमारे पास 10 वर्ष के लिए प्रति वर्ष 2,09,643 टन कार्बनडाई ऑक्‍साइड की कुल बचत करने वाली 6 पंजीकृत सीडीएम परियोजनाएं (केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के बीच एक अनोखी फीट) हैं। 10 और सीडीएम परियोजनाएं पंजीकरण के अधीन हैं, जिनसे हमारे कार्बनिक क्रेडिटों के पोर्टफोलियो में पर्याप्‍त वृद्धि होगी।

हमारे लिए यह एक संगठनात्‍मक उद्देश्‍य है कि प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष ऊर्जा खपत में कमी के प्रति काम करके उत्‍तरोत्‍तर अपने कार्बन फुटप्रिंट को कम किया जाए। हमने एक विस्‍तृत पूरे संगठन वाली जीएचजी इनवेंटरी बनाने की योजना बनाई है, जो अगले 2 से 3 वर्षों में प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष ऊर्जा दोनों को कवर करती है। यह संगठन के समग्र कार्बन फुटप्रिंट उपलब्‍ध कराएगी और अल्‍पीकरण अवसरों की पहचान करने में सहायता करेगी। हमारी प्रतिनिधि प्रचालन इकाइयों के जीएचजी फुटप्रिंट का मूल्‍यांकन करने के लिए एक बड़ा कार्य पहले ही पूरा कर लिया गया है। यह बड़ा कार्य अब सभी व्‍यवहार्य जीएचजी अल्‍पीकरण अवसरों की पहचान के लिए गहन अध्‍ययन करने हेतु महत्‍वपूर्ण रूप से और हमारे संगठनात्‍मक कार्बन फुटप्रिंट का आकलन करने के लिए एक पैन ओएनजीसी जीएचजी लेखांकन कार्य में मापा जा रहा है। पैन ओएनजीसी कार्बन फुट‍ प्रिंटिंग के कार्य के 2013 में पूरा हो जाने की संभावना है और यह हमें चल रही अनेक व्‍यवहार्य अल्‍पीकरण परियोजनाएं उपलब्‍ध कराएगा, जिन पर कार्य किया जा सकेगा।

राष्‍ट्रीय गैस स्‍टार कार्यक्रम

हमारे लिए एक अभिनव, रुचिकर जलवायु परिवर्तन अल्‍पीकरण कार्यक्रम, हमारे उत्‍पादन प्रचालनों से अस्‍थायी मीथेन उत्‍सर्जनों की कमी और पहचान, मात्रा निर्धारण है। इसके लिए हमने लाभप्रद, स्‍वैच्छिक मीथेन उत्‍सर्जन अल्‍पीकरण क्रियाकलापों की रिपोर्टिंग और विकास, कार्यान्‍वयन को बढ़ावा देने के लिए अपने प्राकृतिक गैस स्‍टार कार्यक्रम के अंतर्गत ओएनजीसी ने मीथेन से बाजार (अब जीएमआई) परियोजनाएं आरंभ करने हेतु अगस्‍त 2007 में यूनाइटेड स्‍टेट्स इनवायरनमेंट प्रोटेक्‍शन एजेंसी (यूएसईपीए) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए हैं।

जीएमआई साझेदारी के अंतर्गत संचालित, समझौता ज्ञापन के अधीन यू.एस. ईपीए और ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) के बीच तकनीकी सहयोग ने अब और भविष्‍य में लागत प्रभावी तरीके से मीथेन उत्‍सर्जनों को कम करने के लिए ओएनजीसी के अंदर जानकारी और क्षमता का एक सुदृढ़ आधार निर्मित कर दिया है।

इस समय ओएनजीसी ने 2007 में समझौते में शामिल होने से लगभग 10.54 एमएमएससीएम कम कर दिया है, जो वातावरण से 150,000 की कार्बनडाई ऑक्‍साइड कम करने के समतुल्‍य है और हमने अस्‍थायी हाइड्रोकार्बन उत्‍सर्जन के लिए अपनी सभी उत्‍पादन स्‍थापनाओं का मानचित्रण करने और आगामी कुछ वर्षों में संस्‍थापनाओं को रिसावमुक्‍त बनाने की एक विस्‍तृत योजना बनाई है। अब तक हमने 56 सुसंगत सुविधाओं में रिसाव का पता लगाने और मापने का कार्य पूरा कर लिया है। अपने योजनाबद्ध उद्देश्‍यों को प्राप्‍त कर लेने पर यह ओएनजीसी के लिए और भारत में विस्‍तृत रूप से तेल तथा गैस उद्योग के लिए एक महत्‍वपूर्ण फीट होगा।

स्‍थायी जल प्रबंधन :

हम पूरी कंपनी में 'स्‍थायी जल प्रबंधन कार्यनीति' पर भी कार्य कर रहे हैं, जिसका उद्देश्‍य अंतर्राष्‍ट्रीय रूप से मान्‍यताप्राप्‍त मानकों और पद्धतियों पर आधारित जल फुटप्रिंट पर रिपोर्टिंग और विशिष्‍ट ताजे जल की खपत में कमी करना है। हमारी कार्य योजनाओं में जल के उपयोग का बेसलाइन आकलन, प्रचालन विशिष्‍ट स्‍थायी जल प्रबंधन योजनाओं के बाद अल्‍पावधि में रिपोर्टिंग सक्षमता निगमित करना, जल पुन:चक्रण के साथ स्‍थान-विशिष्‍ट एसओपी और मध्‍यम से दीर्घावधि में यथाउपयुक्‍त पुन: प्रयोग के लक्ष्‍य शामिल हैं।

स्‍थायित्‍व रिपोर्टिंग

स्‍टेकहोल्‍डरों के वृहत निकाय के प्रति जवाबदेह, जिम्‍मेदार और पारदर्शी होने की आवश्‍यकता को हमेशा स्‍वीकार करते हुए हमने 2009-10 में वैश्विक रूप से मान्‍यताप्राप्‍त वैश्विक रिपोर्टिंग पहल (जीआरआई-जी3) के दिशानिर्देशों पर आधारित स्‍थायित्‍व रिपोर्टिंग आरंभ की है। हम स्‍थायित्‍व रिपोर्ट पर आधारित अपने निरंतर तीसरे स्‍वतंत्र रूप से आश्‍वस्‍त जीआरआई-जी3 का विमोचन करने की प्रक्रिया में हैं। हम बाह्य रूप से आश्‍वस्‍त स्‍थायित्‍व रिपोर्टें जारी करते रहेंगे, जिसमें हम स्‍टेकहोल्‍डरों के साथ समग्र रूप से सुधार करने का प्रयास करेंगे, अपने त्रि-सतरीय बॉटम लाइन कार्य-निष्‍पादन के लिए जवाबदेह रहेंगे और इसमें सुधार करने में सहायता करेंगे।

ओएनजीसी में हमारा यह दृढ़ विश्‍वास है कि स्‍थायी विकास के लिए सभी सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा उनकी शक्ति के अनुसार योगदान करना आवश्‍यक है और राष्‍ट्र के अग्रणी निगमित नागरिक के रूप में हम स्‍थायी विकास के लिए अपना सर्वोत्‍तम योगदान दे रहे हैं और हमेशा देते रहेंगे।

निगमित स्‍थायित्‍व फिल्‍म 2013 देखने के लिए यहां क्लिक करें।