• कॉर्पोरेट प्रोफाइल

नया क्या है

अजय मल्‍होत्रा



अजय मल्‍होत्रा

अजय मल्‍होत्रा दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय के दिल्‍ली स्‍कूल ऑफ इकनॉमिक्‍स से अर्थशास्‍त्र में स्‍नातकोत्‍तर उपाधि धारक हैं। आपने 1977 में भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) में पदभार ग्रहण किया था और विदेश मंत्रालय में कार्यों के साथ-साथ बुखारेस्‍ट, जेनेवा, कुवैत, मास्‍को, नैरोबी, न्‍यूयार्क और वाशिंगटन डीसी में भारतीय डिप्‍लोमैटिक मिशनों में कार्य किया।

आप अंतर्राष्‍ट्रीय कॉटन परामर्श समिति के अध्‍यक्ष के रूप में 2002-2003 से साथ-साथ सेवा करते रहे। आप भारतीय दूतावास, वाशिंगटन डीसी (1999-2003) में मिनिस्‍टर (कॉमर्स) थे। आप लगभग 37 वर्ष की विशिष्‍ट सेवा करने के पश्‍चात 30 नवंबर, 2013 को भारतीय विदेश सेवा से सेवानिवृत्‍त होने से पहले रूमानिया में भारत के राजदूत थे, साथ-साथ अल्‍बेनिया और मोल्‍डोवा (2003-2005), संयुक्‍त राष्‍ट्र, न्‍यूयार्क (2005-2009) में भारत के स्‍थायी उप-प्रतिनिधि, कुवैत में भारत के राजदूत (2009-2011) और रूस परिसंघ में भारत के राजदूत (2011-2013) रहे।

आपके व्‍यापक अनुभव में जीव-विज्ञान संबंधी विविधता, जलवायु परिवर्तन, रेगिस्‍तान समाप्‍त करने, शिक्षा, ऊर्जा, वनारोपण, स्‍वास्‍थ्‍य, मानव अधिकार, मानव स्‍थापन, बौद्धिक संपदा अधिकार, अंतर्राष्‍ट्रीय कानून, श्रम, ओज़ोन अल्‍पीकरण, स्‍थायी विकास और अंतर्राष्‍ट्रीय व्‍यापार जैसे वार्ता वाले मुद्दों के भारतीय दल में रहना शामिल है। 2004 में आपको पर्यावरण एवं विकास के समर्थन में आपके कार्यों की मान्‍यता स्‍वरूप वेस्‍टर्न अरध विश्‍वविद्यालय, रूमानिया द्वारा मानद डाक्‍ट्रेट से सम्‍मानित किया गया।

वर्तमान में आप सुविधावंचित व्‍यक्तियों की सेवा करने वाले दो संगठनों – ''चिकित्‍सा और शिक्षा'' के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध ट्रस्‍टी तथा विक्‍टोरिया और अल्बर्ट म्‍यूजियम में नेहरु ट्रस्‍ट फॉर दि इंडियन कलेक्‍शन के अध्‍यक्ष और एनएबी सेंटर फॉर ब्‍लाइंड वूमेन एंड डिसेबिलिटी स्‍टडीज के अध्‍यक्ष होने के साथ-साथ ऊर्जा एवं संसाधन संस्‍थान (टीईआरआई), नई दिल्‍ली में एक प्रतिष्ठित फेलो हैं। आप बार-बार आर्थिक, पर्यावरणीय, प्रतिरक्षा, राजनीतिक, व्‍यापार एवं सुरक्षा संबंधी मुद्दों पर होने वाली संगोष्ठियों में योगदान करते हैं।