• कॉर्पोरेट प्रोफाइल

नया क्या है

मानव संसाधन

हमारे लोग

''केवल भारत ने ही ........ तेल के अन्‍वेषण और दोहन के लिए अपनी मशीनरी स्‍थापित नहीं की....... एक दक्ष तेल आयोग का निर्माण किया गया था, जहां बड़ी संख्‍या में प्रतिभावान युवक और युवतियों को प्रशिक्षित किया गया था और वे अच्‍छा कार्य कर रहे थे'',पंडित जवाहरलाल नेहरू, भारत के पहले प्रधान मंत्री ने लॉर्ड माउंटबैटन को ओएनजीसी पर कहा (1959)।

आज ओएनजीसी भारत की एक बड़ी कंपनी है और इसे संभव करने वाला लगभग 33000 व्‍यवसायविदों का एक समर्पित दल है जो रात-दिन मेहनत करता है। यह परिश्रम ही है, जो ओएनजीसी की प्रत्‍याशाओं और कार्य-निष्‍पादन संबंधित आंकड़ों को स्‍पष्‍ट रूप से प्रदर्शित करता है। कंपनी ने इस दल की वैज्ञानिक आयोजना, अधिग्रहण, उपयोग, प्रशिक्षण और अभिप्रेरण में प्रगतिशील नीतियां अपनाई हैं। ओएनजीसी में प्रत्‍येक व्‍यक्ति को महत्‍वपूर्ण माना जाता है।

ओएनजीसी के पास तेल और गैस के अन्‍वेषण और उत्‍पादन तथा संबंधित तेल फील्‍ड सेवाओं के सभी क्रियाकलाप क्षेत्रों में आंतरिक सेवा सक्षमताओं वाली कंपनी होने की अनोखी विशेषता है।

इस बात पर जोर दिए जाने की आवश्‍यकता नहीं है कि इसे मशीन के पीछे काम करने वाले पुरुषों और महिलाओं द्वारा संभव बनाया गया। 18,000 से भी अधिक तकनीकी रूप से सक्षम अनुभवी वैज्ञानिक, इंजीनियर और विशेषज्ञ व्‍यवसायविद, जिनमें से अधिकांश भारत के और विदेश के प्रतिष्ठित विश्‍वविद्यालयों/ संस्‍थानों से हैं, हमारे अधिकारी प्रोफाइल को महत्‍वपूर्ण बनाते हैं। उनमें भू-वैज्ञानिक, भू-भौतिकी वैज्ञानिक, भू-रसायन वैज्ञानिक, वेधन इंजीनियर, भंडार इंजीनियर, पेट्रोलियम इंजीनियर, उत्‍पादन इंजीनियर, इंजीनियरी और तकनीकी सेवा प्रदायक, वित्‍तीय और मानव संसाधन विशेषज्ञ तथा सूचना प्रौद्योगिकी व्‍यवसायविद शामिल हैं।

मानव संसाधन, स्‍वप्‍न, संकल्‍प और उद्देश्‍य

मानव संसाधन स्‍वप्‍न

''ऊर्जा व्‍यवसाय में नेतृत्‍व के लिए एक विश्‍व स्‍तरीय मानव पूंजी सृजित और प्रोत्‍साहित करना।''

मानव संसाधन संकल्‍प

''कार्यरत, शक्तिप्राप्‍त और उत्‍साहित कर्मचारियों के जरिए व्‍यवसाय अग्रणियों को सहायता प्रदान करने के लिए सर्वोत्‍तम मानव संसाधन पद्धतियों को अंगीकार करना और निरंतर अभिनव बनाना।''

मानव संसाधन उद्देश्‍य

  • निष्‍ठा, अपनेपन, दल कार्य, जवाबदेही और अभिनव की संस्‍कृति को समृद्ध करना और बनाए रखना।
  • प्रतियोगितात्‍मक लाभ के लिए प्रतिभावान व्‍यक्तियों को आकर्षित करना, प्रोत्‍साहित करना, काम पर लगाना और साथ बनाए रखना।
  • कर्मचारियों की सक्षमता में निरंतर वृद्धि करना।
  • एक आनंदपूर्ण कार्यस्‍थल सृजित करना।
  • उच्‍च कार्य-निष्‍पादन कार्य प्रणालियों को प्रोत्‍साहित करना।
  • मानव संसाधन पद्धतियों, प्रणालियों और प्रक्रियाओं को वैश्विक बेंचमार्कों तक उन्‍नत करना और अभिनव बनाना।
  • 'वर्क लाइक बैलेंस' को प्रोत्‍साहित करना।
  • मानव संसाधन के कार्य-निष्‍पादन को मापना और लेखापरीक्षा करना।
  • वर्क लाइक बैलेंस को प्रोत्‍साहित करना, कर्मचारियों के परिवार को संगठनात्‍मक ताने-बाने में एकीकृत करना।
  • कर्मचारियों के बीच निगमित सामाजिक जिम्‍मेदारियों की भावना उत्‍पन्‍न करना।

मानव संसाधन कार्य-निष्‍पादन को मापना

मानव संसाधन प्रणालियों के प्रभावीपन का सुव्‍यव‍स्‍थित और वैज्ञानिक ढंग से मूल्‍यांकन करने के लिए, जो समयबद्ध पहलों को समर्थ बनाता है और उसके लिए सुविधाएं प्रदान करता है, 1994-95 से ओएनजीसी द्वारा समझौता ज्ञापन में मानव संसाधन के मापदंड शामिल किए गए हैं।

2009-10 के लिए समझौता ज्ञापन के मानव संसाधन मापदंड

  • मेंटरिंग और कोचिंग
  • मानव संसाधन लेखापरीक्षा
  • ऐंगेजमेंट सर्वेक्षण
  • ओएनजीसी के वित्‍त अधिकारियों के लिए निरंतर व्‍यावसायिक शिक्षा क्रेडिट पाठ्यक्रम

एक अभिप्रेरित दल

ओएनजीसी में मानव संसाधन नीतियां एक अत्‍यधिक अभिप्रेरित, गतिशील और स्‍व-सचालित दल सृजित करने के मूलभूत सिद्धांत के इर्द-गिर्द घूमती हैं। यह कंपनी प्रत्‍येक कर्मचारी की देखभाल करती है और इसके पास आवधिक रूप से उन्‍हें पुरस्‍कृत करने और मान्‍यता प्रदान करने की अंतर्निहित प्रणालियां हैं। अभिप्रेरण मानव संसाधन विकास में एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। अपने कर्मचारियों को अभिप्रेरित बनाए रखने की दृष्टि से कंपनी ने योजनाएं शामिल की हैं जैसे पुरस्‍कार और मान्‍यता योजना, शिकायत निवारण योजना और सुझाव योजना।

उत्‍पादकता में वृद्धि करने के लिए प्रोत्‍साहन योजनाएं

  • उत्‍पादकता मानदेय योजना
  • कार्य प्रोत्‍साहन
  • त्रैमासिक प्रोत्‍साहन
  • आरक्षित प्रतिष्‍ठान मानदेय
  • चुनिंदा प्रमुख पदों के लिए अनुक्रम प्‍लानिंग मॉडल का रोल ऑउट
  • उत्‍पादकता में वृद्धि करने की दृष्टि से संशक्तिशील दल कार्यचालन हेतु समूह प्रोत्‍साहन।

प्रशिक्षण और विकास

ओएनजीसी की कर्मचारी-केंद्रित नीतियों का एक अभिन्‍न अंग उनके ज्ञान उन्‍नयन और विकास पर इसका जोर देना है। ओएनजीसी की अकादमी, जिसे पहले प्रबंधन विकास संस्‍थान (आईएमबी) के रूप में जाना जाता था, जिसके पास 7 अन्‍य प्रशिक्षण संस्‍थानों के साथ-साथ आईएफओ 9001 प्रमाणीकरण है, वैश्विक मानकों के साथ अपने कार्य बल को बनाए रखने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है।

ओएनजीसी अकादमी ओएनजीसी के मानव संसाधन के विकास के लिए जिम्‍मेदार प्रमुख नोडल एजेंसी है। यह हाइड्रोकार्बनों के अन्‍वेषण और उत्‍पादन के क्षेत्र में अपनी मानव संसाधन विकास विशेषज्ञता का विपणन करने पर भी ध्‍यान केंद्रित करती है। ओएनजीसी के खेलकूद संवर्धन बोर्ड, जो एक शीर्षस्‍थ निकाय है, के पास एक व्‍यापक खेलकूद नीति है जिसके जरिए राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर खेलकूद में शीर्षस्‍थ सम्‍मान प्राप्‍त किए गए हैं।

संगठन का रूपांतरण

ओएनजीसी ने संगठन के रूपांतरण का कार्य आरंभ कर दिया, जिसमें विभिन्‍न कार्य केंद्रों में कर्मचारियों के बीच सहभागिता और जुड़ाव सुनिश्चित करने के लिए एक संसूचन कार्यनीति बनाकर एक परिवर्तन एजेंट के रूप में मानव संसाधन में अग्रणी भूमिका निभाई है। इस परियोजना में कर्मचारियों को शामिल करने में सुविधा प्रदान करने हेतु अनन्‍य कार्यशालाएं और परस्‍पर विचार-विमर्श/ब्रेनस्‍टोर्मिंग सत्र आयोजित किए जाते हैं।

सहभागिता की संस्‍कृति

ओएनजीसी में नीतियों और नीति निर्धारकों ने हमेशा हृदय से बड़े और बहु-आयामी कार्यबल में रुचि दर्शाई है और सौहार्दपूर्ण औद्योगिक संबंधों के महत्‍व और सूक्ष्‍म भेदों के प्रति जागरूक रहे हैं। प्रबंधन में भाग लेने के लिए कर्मकारों को समर्थ बनाकर उन्‍हें एक अभिनव संस्‍कृति को प्रोत्‍साहित करने के लिए और विचार-विमर्शी सहभागिता के लिए एक सूचनात्‍मक, परामर्शी, सहभागितात्‍मक और प्रशासनिक मंच उपलब्‍ध कराया जाता है।

वास्‍तव में, ओएनजीसी कुछ ऐसे संगठनों में से एक संगठन रहा है, जहां उस पद्धति को कार्यान्वित किया गया है। इसका समग्र प्रचालनों पर एक सकारात्‍मक प्रभाव पड़ा क्‍योंकि इसके परिणामस्‍वरूप दक्षता और उत्‍पादकता में वृद्धि हुई और अपव्‍यय तथा लागतों में कमी आई।

एक मॉडल निगमित नागरिक

सम्‍मान और प्रतिष्‍ठा ऐसे प्रमुख मूल्‍य हैं, जो उस संबंध को रेखांकित करते हैं जो अपनी मानव परिसंपत्ति के साथ ओएनजीसी के पास हैं। समाज के प्रति अपनी जिम्‍मेदारी के बारे में सचेत ओएनजीसी ने पूरे देश में अपने प्रचालनों के आसपास के क्षेत्रों में सामाजिक-आर्थिक कार्यक्रमों के लिए दिशानिर्देश तैयार किए हैं।

  • शिक्षा
  • स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल और परिवार कल्‍याण
  • सामुदायिक विकास
  • खेल और संस्‍कृति को बढ़ावा देना
  • आपदा राहत
  • अवसंरचनात्‍मक सुविधाओं का विकास
  • समाज के सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों का विकास, लाभ और कल्‍याण।

खेलकूद

95 अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर के खिलाडि़यों सहित लगभग 150 खिलाड़ी ओएनजीसी की नामावली में हैं, जो 15 भिन्‍न-भिन्‍न खेलों में आपकी कंपनी का प्रतिनिधित्‍व करते हैं।

निगमित सामाजिक जिम्‍मेदारी

  • ओएनजीसी संयुक्‍त राष्‍ट्र वैश्विक समझौते की अगुवाई कर रहा है – उद्योग, संयुक्‍त राष्‍ट्र निकायों, गैर-सरकारी संगठनों, सिविल सोसायटियों और निगमों को उसी मंच पर लाने के लिए विश्‍व की सबसे बड़ी निगमित नागरिकता पहल।
  • इस वर्ष के दौरान आपकी कंपनी ने अपने कार्य केंद्रों में और निगम के स्‍तर पर भिन्‍न-भिन्‍न निगमित सामाजिक जिम्‍मेदारी परियोजनाएं आरंभ की हैं।

महिला सशक्‍तीकरण

महिला कर्मचारी ओएनजीसी के कार्यबल का लगभग 5 प्रतिशत हैं। लिंग संवेदनशीलता पर कार्यक्रम सहित सशक्‍तीकरण और विकास के लिए विभिन्‍न कार्यक्रम नियमित रूप से आयोजित किए जाते हैं।